New Delhi hits record-breaking Temperature 52.3°C : जलवायु संकट और शहरी गर्मी से बचाव के तरीके

भारत की राजधानी New Delhi hits record-breaking Temperature का सामना किया है, जिसमें तापमान 52.3 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। यह रिकॉर्ड तापमान मंगेशपुर तापमान मॉनिटरिंग स्टेशन में दोपहर 2:30 बजे दर्ज किया गया, जो New Delhi में record-breaking Temperature है। इस अप्रत्याशित हीटवेव ने न केवल पिछले रिकॉर्ड्स को तोड़ा है, बल्कि जलवायु परिवर्तन और शहरी वातावरण पर इसके बढ़ते प्रभाव को भी उजागर किया है।

New Delhi hits record-breaking Temperature 52.3°C

हीटवेव की समझ

भारतीय मौसम विभाग (IMD) के क्षेत्रीय प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने इस अत्यधिक मौसम घटना के प्रमुख कारणों को स्पष्ट किया। श्रीवास्तव के अनुसार, शहर के बाहरी क्षेत्र, विशेष रूप से मंगेशपुर, नरेला और नजफगढ़ जैसे क्षेत्र, राजस्थान से आने वाली गर्म हवाओं से सबसे पहले प्रभावित होते हैं। ये गर्म हवाएं पहले से ही गंभीर तापमान को और अधिक बढ़ा देती हैं, जिससे इन क्षेत्रों में अत्यधिक गर्मी का प्रारंभिक आगमन होता है।

“दिल्ली के कुछ हिस्से इन गर्म हवाओं के प्रारंभिक आगमन के प्रति विशेष रूप से संवेदनशील हैं, जो पहले से ही गंभीर मौसम को और अधिक खराब कर देता है। मंगेशपुर, नरेला और नजफगढ़ जैसे क्षेत्र इन गर्म हवाओं की पूरी ताकत का अनुभव करने वाले पहले स्थान हैं,” श्रीवास्तव ने पीटीआई को बताया।

तापमान में यह वृद्धि, जो अपेक्षित स्तरों से नौ डिग्री से अधिक थी, रिकॉर्ड तोड़ गर्मी का दूसरा लगातार दिन था, जिसने 2002 में दर्ज 49.2 डिग्री सेल्सियस के पिछले उच्चतम तापमान को पार कर लिया। IMD (India Meteorological Department) ने नोट किया है कि जलवायु परिवर्तन के कारण ऐसी अत्यधिक तापमान घटनाएँ अधिक सामान्य हो रही हैं, जो गर्मियों को अधिक लंबी, अधिक बार और अधिक तीव्र बना रही हैं।

दैनिक जीवन पर प्रभाव

इस तीव्र हीटवेव ने न केवल दैनिक जीवन को प्रभावित किया है, बल्कि महत्वपूर्ण स्वास्थ्य जोखिम भी उत्पन्न किए हैं। IMD(India Meteorological Department) ने दिल्ली के लिए एक रेड अलर्ट स्वास्थ्य नोटिस जारी किया है, जिसमें सभी उम्र के लोगों में “गर्मी की बीमारी और हीट स्ट्रोक के विकसित होने की बहुत अधिक संभावना” की चेतावनी दी गई है। यह चेतावनी विशेष रूप से कमजोर आबादी जैसे बुजुर्गों, बच्चों और पहले से ही स्वास्थ्य समस्याओं से ग्रस्त लोगों के लिए अत्यधिक सावधानी की आवश्यकता पर जोर देती है।

New Delhi hits record-breaking Temperature

दिल्ली के प्रमुख मौसम स्टेशन सफदरजंग वेधशाला ने 46.8 डिग्री सेल्सियस का अधिकतम तापमान दर्ज किया, जो 79 वर्षों में सबसे अधिक है। भीषण गर्मी के कारण 8,302 मेगावाट (MW) की सर्वकालिक उच्चतम बिजली मांग हुई है क्योंकि निवासी इन कठिन परिस्थितियों का सामना करने के लिए एयर-कंडीशनिंग का अधिक उपयोग कर रहे हैं। बिजली के उपयोग में इस वृद्धि ने पावर ग्रिड पर दबाव डाला है, जो चरम मौसम की घटनाओं से उत्पन्न बुनियादी ढांचे की चुनौतियों को उजागर करता है।

क्षेत्रीय विविधताएं और राहत की संभावनाएं

जहां दिल्ली ने अभूतपूर्व तापमान का सामना किया, वहीं अन्य क्षेत्रों ने भी अत्यधिक उच्च तापमान दर्ज किया। राजस्थान के रेगिस्तानी राज्य में, फलोदी ने 51 डिग्री सेल्सियस का तापमान दर्ज किया, जबकि हरियाणा के सिरसा में तापमान 50.3 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। हालांकि, राजस्थान के दक्षिणी जिलों जैसे बाड़मेर, जोधपुर, उदयपुर, सिरोही और जालोर में तापमान में 4 डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट दर्ज की गई। यह गिरावट अरब सागर से नम हवाओं के आगमन के कारण हुई।

IMD के न्यूमेरिकल वेदर प्रेडिक्शन (NWP) डेटा के अनुसार, हीटवेव की स्थिति में धीरे-धीरे कमी आने की संभावना है। अरब सागर से नम हवाओं के उत्तर की ओर बढ़ने की उम्मीद है, जिससे हीटवेव से प्रभावित क्षेत्रों को राहत मिल सकती है। इसके अलावा, गुरुवार से बंगाल की खाड़ी से नम हवाओं के आगमन से उत्तर प्रदेश में अधिकतम तापमान में धीरे-धीरे गिरावट की संभावना है, जिससे हीटवेव की स्थिति में कमी के संकेत मिल रहे हैं।

जलवायु परिवर्तन और शहरी हीट आइलैंड प्रभाव

वर्तमान हीटवेव जलवायु परिवर्तन के व्यापक प्रभावों की एक स्पष्ट याद दिलाने वाली घटना है। वैज्ञानिक अनुसंधान ने लगातार यह दिखाया है कि वैश्विक तापमान में वृद्धि के कारण गर्मी की लहरें अधिक बार, लंबी और तीव्र होती जा रही हैं। दिल्ली जैसे शहरी क्षेत्र विशेष रूप से शहरी हीट आइलैंड प्रभाव के कारण संवेदनशील हैं, जहां कंक्रीट और डामर गर्मी को अवशोषित और बनाए रखते हैं, जिससे तापमान में वृद्धि होती है।

यह घटना उच्च जनसंख्या घनत्व और महत्वपूर्ण वाहन उत्सर्जन से भी प्रभावित होती है, जो कुल मिलाकर गर्मी में योगदान करते हैं। स्थायी शहरी योजना और हरित बुनियादी ढांचे की आवश्यकता पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हो गई है। हरित आवरण बढ़ाना, ऊर्जा-सक्षम भवनों को बढ़ावा देना और गर्मी शमन रणनीतियों के बारे में सार्वजनिक जागरूकता बढ़ाना, अत्यधिक मौसम की घटनाओं का सामना करने में सक्षम शहर बनाने के लिए आवश्यक कदम हैं।

New Delhi hits record-breaking Temperature

स्वास्थ्य और सुरक्षा उपाय

अत्यधिक गर्मी के प्रति प्रतिक्रिया में, स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने गर्मी से संबंधित बीमारियों से बचने के लिए निवारक उपायों के महत्व पर जोर दिया है। हाइड्रेटेड रहना, चरम घंटों के दौरान सीधे सूर्य के संपर्क से बचना और हल्के, सांस लेने योग्य कपड़े पहनना आवश्यक प्रथाएं हैं। सार्वजनिक स्वास्थ्य अभियान, निवासियों को हीटवेव के खतरों और खुद को सुरक्षित रखने के आवश्यक एहतियातों के बारे में शिक्षित करने में महत्वपूर्ण हैं।

सरकार ने नियोक्ताओं से भी बाहर काम करने वाले श्रमिकों के लिए सुरक्षित कार्य स्थितियों को सुनिश्चित करने का आग्रह किया है, जिसमें पर्याप्त ब्रेक और पानी की उपलब्धता शामिल है। अस्पतालों और स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं को गर्मी से संबंधित चिकित्सा मामलों की अपेक्षित वृद्धि को प्रबंधित करने के लिए उच्च सतर्कता पर रखा गया है।

New Delhi hits record-breaking Temperature

निष्कर्ष

New Delhi hits record-breaking Temperature तोड़ हीटवेव शहरी वातावरण पर जलवायु परिवर्तन के बढ़ते प्रभाव का स्पष्ट संकेत है। 52.3 डिग्री सेल्सियस के सर्वकालिक उच्चतम तापमान के साथ, शहर को इस अत्यधिक मौसम के स्वास्थ्य और बुनियादी ढांचे पर प्रभावों का प्रबंधन करने में महत्वपूर्ण चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। IMD की चेतावनियां और देखी गई बिजली मांग में वृद्धि, हीटवेव के प्रभावों को कम करने के लिए अनुकूली उपायों की तत्काल आवश्यकता पर प्रकाश डालती हैं।

जैसे-जैसे जलवायु परिवर्तन मौसम के पैटर्न को प्रभावित करता है, यह जरूरी है कि शहर स्थायी शहरी योजना और लचीली बुनियादी ढांचे में निवेश करें। चल रही हीटवेव नीति निर्माताओं, शहरी योजनाकारों और निवासियों को जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को कम करने और अत्यधिक गर्मी के खतरों से कमजोर आबादी की सुरक्षा के लिए सक्रिय कदम उठाने के लिए एक जागृति कॉल के रूप में काम करती है। सामूहिक प्रयासों और सूचित निर्णय लेने के माध्यम से, शहर अधिक लचीले बन सकते हैं और गर्म होती दुनिया द्वारा उत्पन्न चुनौतियों का सामना करने के लिए बेहतर तरीके से तैयार हो सकते हैं।

Leave a comment