Lok Sabha Election Results Analysis Live Updates: Samajwadi Party third largest leading party

राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण राज्य उत्तर प्रदेश में एक नाटकीय घटनाक्रम में, समाजवादी पार्टी (सपा) विपक्षी INDIA गठबंधन के अभियान का नेतृत्व कर रही है। उत्तर प्रदेश, जो लोकसभा में सबसे अधिक 80 सांसद भेजता है, एक युद्धभूमि बन गया है जहां सपा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रभुत्व को चुनौती दे रही है। शाम 3 बजे तक, सपा 35 सीटों पर आगे चल रही थी, जबकि भाजपा 34 सीटों पर थी। यदि यह प्रदर्शन बना रहता है, तो यह सपा के लिए अब तक का सबसे अच्छा लोकसभा चुनाव परिणाम होगा, जो 2004 में कांग्रेस के नेतृत्व वाले संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) की जीत के दौरान 36 सीटों के रिकॉर्ड को पार करेगा।

Lok Sabha Election Results Analysis Live Updates: Samajwadi Party third largest leading party

कन्नौज में अखिलेश यादव की निर्णायक बढ़त

समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव, कन्नौज से एक महत्वपूर्ण जीत हासिल करने के कगार पर हैं, जो उनके परिवार का गढ़ है। शाम 3 बजे तक, यादव 3.5 लाख वोटों से बसपा के इमरान बिन ज़फ़र से आगे चल रहे थे। भाजपा के सुभ्रत पाठक काफी पीछे चल रहे हैं, एक लाख से अधिक वोटों से पीछे हैं। यह निर्णायक बढ़त राज्य में यादव की मजबूत स्थिति और उनकी पार्टी के बढ़ते प्रभाव को दर्शाती है।

सपा का संघर्ष और पुनरुत्थान

समाजवादी पार्टी का वर्तमान प्रदर्शन पिछले लोकसभा चुनावों के मुकाबले एक बड़ा परिवर्तन है। 2019 के चुनाव में, भाजपा ने उत्तर प्रदेश में 80 में से 62 सीटें जीतीं, जबकि उसकी सहयोगी अपना दल (सोनेलाल) ने दो और सीटें जीतीं। दूसरी ओर, सपा केवल पांच सीटें ही जीत सकी, जो 2014 के प्रदर्शन की पुनरावृत्ति थी। यह 2009 में हासिल 23 सीटों की तुलना में एक महत्वपूर्ण गिरावट थी। इस चुनाव में सपा का पुनरुत्थान इसलिए एक उल्लेखनीय बदलाव को दर्शाता है।

कांग्रेस की मजबूत पकड़

समाजवादी पार्टी के मुकाबले सीटों की संख्या में कम होने के बावजूद, कांग्रेस सात निर्वाचन क्षेत्रों में आगे चल रही है, जिनमें ऐतिहासिक गढ़ अमेठी और रायबरेली शामिल हैं। अमेठी में, कांग्रेस उम्मीदवार किशोरी लाल भाजपा की स्मृति ईरानी से 1.1 लाख वोटों से आगे चल रहे हैं। यह संभावित जीत विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि यह उस सीट को फिर से हासिल करेगी जिसे पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने 1981 से 1991 तक (उनकी हत्या तक) संभाला था। वहीं, रायबरेली में राहुल गांधी भाजपा के दिनेश प्रताप सिंह से 3.3 लाख वोटों से आगे चल रहे हैं। राहुल गांधी ने रायबरेली से चुनाव लड़ने का निर्णय लिया, क्योंकि उनकी माँ, सोनिया गांधी, ने राज्यसभा के लिए इस सीट को खाली कर दिया था। ये बढ़त कांग्रेस पार्टी के इन प्रमुख क्षेत्रों में पुनरुत्थान को दर्शाती है।

Lok Sabha Election Result

भाजपा के प्रभुत्व को चुनौती

यदि वर्तमान रुझान बने रहते हैं, तो समाजवादी पार्टी वह हासिल करेगी जो पिछले दो राष्ट्रीय या राज्य चुनावों में न तो कांग्रेस और न ही बसपा कर सकी: उत्तर प्रदेश में भाजपा को महत्वपूर्ण हार देना। यह संभावित परिणाम पूरी तरह अप्रत्याशित नहीं है। 2022 के विधानसभा चुनावों में, भाजपा ने राज्य की 417 सीटों में से 255 पर जीत हासिल की। हालांकि, सपा 111 सीटों के साथ सबसे करीबी प्रतिद्वंद्वी के रूप में उभरी, जो पिछले चुनाव की तुलना में 64 सीटों की भारी बढ़त थी। यह उछाल बड़े पैमाने पर किसानों के विरोध प्रदर्शनों के दौरान मिले व्यापक समर्थन के कारण हुआ, जिसने भाजपा के ‘डबल-इंजन सरकार’ को चुनौती दी। उन विरोध प्रदर्शनों से मिले समर्थन का प्रभाव इस लोकसभा चुनाव में भी स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहा है, जिससे सपा की मुहिम को बल मिला है।

एग्जिट पोल के पूर्वानुमान और वास्तविक परिणाम

उत्तर प्रदेश के चुनाव परिणामों ने अधिकांश एग्जिट पोल के पूर्वानुमानों को खारिज कर दिया है, जो बड़े पैमाने पर भाजपा के मजबूत प्रदर्शन की भविष्यवाणी कर रहे थे। एग्जिट पोल के एक संकलन ने सुझाव दिया कि भाजपा और उसके सहयोगी लगभग 68 सीटें जीतेंगे, जबकि INDIA गठबंधन केवल 12 सीटों पर जीत सकता है। कुछ पोल, जैसे कि रिपब्लिक भारत-मेट्रिज़ और इंडिया टुडे-एक्सिस माय इंडिया, ने तो विपक्षी गठबंधन के लिए केवल छह सीटों की भविष्यवाणी की थी। हालांकि, एक अपवाद, टीवी5 तेलुगु, ने विपक्षी समूह के लिए 43 सीटों के संकीर्ण बहुमत की भविष्यवाणी की थी। वास्तविक परिणाम, जिसमें सपा 35 सीटों पर आगे चल रही है, विपक्ष के लिए अपेक्षा से कहीं बेहतर प्रदर्शन का संकेत देते हैं।

INDIA गठबंधन का गठन और रणनीति

समाजवादी पार्टी का पुनरुत्थान कांग्रेस के नेतृत्व वाले INDIA विपक्षी गठबंधन की व्यापक रणनीति का हिस्सा है, जिसका गठन पिछले साल जून में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा को हराने के उद्देश्य से किया गया था। सपा और कांग्रेस के बीच सीट-बंटवारा समझौता, जिसमें सपा 63 सीटों पर और कांग्रेस 17 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, विपक्षी प्रयासों को एकजुट करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम था। यह समझौता विशेष रूप से उल्लेखनीय था क्योंकि यह अन्य राज्यों में शुरुआती असफलताओं और बंगाल में कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस के बीच वार्ता के टूटने के बाद आया था।

Lok Sabha Election

राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य और भाजपा की संभावनाएं

राष्ट्रीय स्तर पर, भाजपा के नेतृत्व वाला राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) मजबूत बना हुआ है, जिसमें एग्जिट पोल ने व्यापक परिणामों की भविष्यवाणी की है। इंडिया टुडे-एक्सिस माय इंडिया और इंडिया टीवी-सीएनएक्स ने सुझाव दिया कि एनडीए 401 सीटें जीत सकता है। अन्य पूर्वानुमान, जैसे कि न्यूज24-टुडेज़ चाणक्य, इस आंकड़े को 400 पर रखते हैं, जबकि अतिरिक्त पोल, जैसे कि एबीपी न्यूज-सी वोटर, जन की बात और न्यूज नेशन, 378 से 392 सीटों के बीच की भविष्यवाणी करते हैं। ये आंकड़े भाजपा के 370 सीटों के लक्ष्य को हासिल करने की मजबूत संभावना का संकेत देते हैं, जिसमें कुछ आंतरिक लक्ष्य 400 सीटों तक सेट हैं।

Election commission of india results

e

विपक्ष की दृष्टिकोण

भारी एग्जिट पोल पूर्वानुमानों के बावजूद, INDIA गठबंधन आशावादी बना हुआ है। कांग्रेस नेताओं मल्लिकार्जुन खड़गे और राहुल गांधी ने आत्मविश्वासपूर्वक अनुमान लगाया है कि विपक्षी समूह 295 सीटें जीतेगा। जबकि अधिकांश एग्जिट पोल इस आकलन से असहमत हैं, कुछ इसे संभावित बना रहे हैं, 150 से 182 सीटों की भविष्यवाणी कर रहे हैं। उदाहरण के लिए, टीवी9 भारतवर्ष- पॉलस्ट्रैट, टाइम्स नाउ-ईटीजी, और रिपब्लिक टीवी-पी मारक ने विपक्ष के लिए क्रमशः 166, 152 और 154 सीटों की भविष्यवाणी की है। हालांकि, अधिक रूढ़िवादी अनुमान, जैसे कि इंडिया न्यूज-डी डायनेमिक्स और न्यूज 24-टुडेज़ चाणक्य, ने केवल 125 और 107 सीटों की भविष्यवाणी की है।

Lok Sabha Election Result Day 2024

निष्कर्ष

उत्तर प्रदेश में बदलता राजनीतिक परिदृश्य भारतीय राजनीति की गतिशीलता को दर्शाता है। समाजवादी पार्टी का संभावित पुनरुत्थान और कांग्रेस पार्टी का खोया हुआ प्रभाव फिर से हासिल करने का प्रयास भाजपा के राज्य में प्रभुत्व के लिए एक महत्वपूर्ण चुनौती का प्रतिनिधित्व करता है। यह चुनाव मतदाता भावना की तरलता और रणनीतिक गठबंधनों के प्रभाव का प्रमाण है। जैसे-जैसे अंतिम परिणाम सामने आएंगे, वे न केवल उत्तर प्रदेश के भविष्य को आकार देंगे बल्कि व्यापक राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य को भी प्रभावित करेंगे। विशेष रूप से, INDIA गठबंधन का प्रदर्शन भविष्य के चुनावों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा को एक विश्वसनीय चुनौती देने की विपक्ष की क्षमता का सूचक होगा।

Leave a comment