Mr. and Mrs. Mahi Review: राजकुमार राव और जान्हवी कपूर की फिल्म में दमदार अभिनय के बावजूद गहराई की कमी

बॉलीवुड में खेल फिल्मों ने ज्यादातर उसी पुराने फॉर्मूले का सहारा लिया है, जिसमें नायक सभी बाधाओं को पार करके जीत हासिल करता है और दर्शकों से जोरदार तालियां बटोरता है। लागान, चक दे! इंडिया, और हाल की मैदान जैसी फिल्में अंडरडॉग की कहानियों को दर्शाती हैं, जो हमेशा खुशी के साथ समाप्त होती हैं। निर्देशक शरण शर्मा की श्री और श्रीमती माही भी इसी रास्ते पर चलती है, लेकिन दुर्भाग्यवश स्थायी छाप छोड़ने में असफल रहती है। राजकुमार राव और जान्हवी कपूर के सराहनीय अभिनय के बावजूद, फिल्म अपने अनुमानित कथानक और असंगत गति के कारण संघर्ष करती है।

Mr. and Mrs. Mahi Review Rajkummar Rao and Janhvi Kapoor's

कहानी

Mr. and Mrs. Mahi Review महेंद्र (राजकुमार राव) और महिमा (जान्हवी कपूर) के इर्द-गिर्द घूमती है, जो न केवल एक ही उपनाम साझा करते हैं, बल्कि क्रिकेट के प्रति गहरी जुनून भी रखते हैं। उनका खेल के प्रति प्रेम इतना गहरा है कि शादी की रात भी वे भारत-ऑस्ट्रेलिया मैच देखते हुए बिताते हैं। महिमा, जो एमबीबीएस टॉपर है, अपने अस्पताल की नौकरी छोड़कर अपने बचपन के सपने को पूरा करने के लिए क्रिकेट के मैदान पर उतरती है। दूसरी ओर, महेंद्र एक असफल क्रिकेटर है, जो अपनी पत्नी को कोचिंग देकर और उसकी कच्ची प्रतिभा को निखार कर अपने जुनून को फिर से जीवित करता है।

राजस्थान की पृष्ठभूमि पर आधारित यह कहानी उनके रिश्ते की गतिशीलता को दर्शाती है, क्योंकि वे समाजिक मानदंडों के सामने आने वाली चुनौतियों का सामना करते हैं। एक ऐसे स्थान पर जहां पुरुष अपनी पत्नियों को सुर्खियों में देखने के आदी नहीं होते, महेंद्र असुरक्षा, ईर्ष्या और विश्वासघात की भावनाओं से जूझता है। आत्म-खोज और अहसास की इस यात्रा के दौरान यह जोड़ी अपनी कमियों, गलतियों और उपलब्धियों का सामना करती है, जो फिल्म का भावनात्मक आधार बनती है। हालांकि, निष्पादन में कमी के कारण दर्शक असंतुष्ट रह जाते हैं।

Mr. and Mrs. Mahi Review

कहानी का खोना

शरण शर्मा और निखिल मेहरोत्रा द्वारा सह-लिखित इस पटकथा में ऐसी संबंधित स्थितियाँ हैं, जो कई दर्शकों के साथ तुरंत जुड़ सकती थीं। यह करियर विकल्पों और बचपन के सपनों की खोज जैसे विषयों को छूता है, जो अक्सर दर्शकों के दिल को छूते हैं। दुर्भाग्यवश, जो कागज पर आकर्षक हो सकता था, वह स्क्रीन पर प्रभावी ढंग से अनुवाद करने में असफल रहा। फिल्म मध्य में भटक जाती है और कई किरदारों के साथ एक मेलोड्रामैटिक पारिवारिक गाथा में बदल जाती है।

तनाव और भावनात्मक गहराई को उत्पन्न करने वाले दृश्य प्रभावशाली नहीं होते, मुख्यतः साधारण संवादों और निष्पादन की कमी के कारण। महेंद्र और महिमा के बीच या अन्य पात्रों से प्रेरक बातें, जरूरी तीव्रता की कमी के कारण दर्शकों को बांधने में विफल रहती हैं। फिल्म की गति की समस्याएं इस समस्या को और भी बढ़ा देती हैं, जिससे कहानी में निवेश बनाए रखना मुश्किल हो जाता है।

एक दृश्य जो बाहर खड़ा है, वह महेंद्र और उसके पिता, हरदयाल अग्रवाल (कुमुद मिश्रा) के बीच उनके खेल दुकान पर होता है। जब एक युवा ग्राहक पूछता है कि महेंद्र की तस्वीर प्रसिद्ध क्रिकेटरों से भरी दीवार पर क्यों नहीं है, तो हरदयाल की ताना मारते हुए प्रतिक्रिया, “जो जीवन में छक्के लगाते हैं, वही यहाँ नज़र आते हैं,” एक गहरी भावनात्मक टिप्पणी है। यह दृश्य परवरिश और दबी हुई बचपन की इच्छाओं के परिणामों पर एक सूक्ष्म टिप्पणी है। यह क्षण फिल्म की संभावित गहराई की ओर इशारा करता है, लेकिन अंततः इसे बनाए रखने में विफल रहता है।

अच्छे प्रदर्शन

राजकुमार राव और जान्हवी कपूर का अभिनय Mr. and Mrs. Mahi Review की मुख्य आकर्षण है। राजकुमार, श्रीकांत में शानदार प्रदर्शन के बाद, एक बार फिर अपने अभिनय कौशल का प्रदर्शन करते हैं। महेंद्र के रूप में उनकी प्रस्तुति में नाजुकता, ताकत, संघर्ष, आत्म-संदेह और निराशा शामिल है, जो उनके चरित्र को सम्मोहक बनाते हैं।

Mr. and Mrs. Mahi Movie public Reaction

जान्हवी कपूर, जिन्होंने इस भूमिका के लिए दो साल तक प्रशिक्षण लिया, एक सक्षम प्रदर्शन देती हैं। उनके क्रिकेट के दृश्य उस मेहनत को दर्शाते हैं, लेकिन उनमें वह उत्साह और ऊर्जा की कमी है, जो आमतौर पर खेल फिल्मों से अपेक्षित होती है। उनका अभिनय एक-आयामी लगता है, लेकिन राजकुमार के साथ उनकी केमिस्ट्री इसे उठाती है। उनके साथ के दृश्य फिल्म के कुछ प्रमुख आकर्षण हैं, जो एक ताजगी भरी साझेदारी दिखाते हैं, जिसे निर्देशक और भी बेहतर तरीके से प्रस्तुत कर सकते थे।

छूटे हुए अवसर

Mr. and Mrs. Mahi Review रोमांस और खेल ड्रामा को मिलाने की कोशिश करती है, लेकिन इसे आधे-अधूरे तरीके से प्रस्तुत करती है। क्रिकेट के खेल की प्रकृति, जो स्वाभाविक रूप से उच्च दांव और एड्रेनालिन से भरी होती है, निराशाजनक रूप से बेजान है। गति की समस्याएं और अनुमानित कथानक इसे और भी बदतर बना देते हैं, जिससे आवश्यक उत्साह या भावनात्मक जुड़ाव पैदा नहीं हो पाता।

फिल्म महत्वपूर्ण विषयों को संक्षेप में छूती है, जैसे कि कोचों की भूमिका जो एथलीटों के करियर को आकार देने में महत्वपूर्ण होती है। एक दृश्य में, महेंद्र का कोच, बेनी दयाल शुक्ला (राजेश शर्मा), उसे कोचिंग की नौकरी ऑफर करता है। महेंद्र की नकारात्मक प्रतिक्रिया, “कोच को पूछता ही कौन है,” कोचों के अक्सर अनदेखे योगदान को उजागर करती है। हालांकि, ये क्षण संक्षिप्त होते हैं और उनमें वह गहराई नहीं होती, जो महत्वपूर्ण प्रभाव छोड़ने के लिए आवश्यक होती है।

Mr. and Mrs. Mahi movie budget

एक बार देखने योग्य

कुल मिलाकर, Mr. and Mrs. Mahi Review एक बार देखने योग्य है, मुख्यतः अपने प्रमुख अभिनेताओं के ईमानदार प्रदर्शन के कारण। हालांकि, फिल्म का कथानक वह जटिलता और भावनात्मक गहराई नहीं रखता, जो इसे यादगार बना सके। यह एक महत्वाकांक्षी परियोजना है, जो प्रभावी खेल ड्रामा देने में असफल रहती है।

फिल्म की संभावनाओं को इसके महिलाओं के क्रिकेट के विषय को पूरी तरह से मनाने में विफलता से और भी कमजोर किया जाता है। शीर्षक Mr. and Mrs. Mahi Review दंपति की साझा यात्रा पर ध्यान केंद्रित करता है, लेकिन “Mr” को “Mrs” से पहले रखना पारंपरिक लिंग गतिशीलता को बरकरार रखता है, जिसे फिल्म और अधिक साहसिक रूप से चुनौती दे सकती थी। महिमा की यात्रा को अधिक प्रमुखता से दिखाना कहानी में एक ताज़गी भरा दृष्टिकोण जोड़ सकता था।

Mr. and Mrs. Mahi Review by Filmi Indian

निष्कर्ष

Mr. and Mrs. Mahi Review एक फिल्म है, जो रोमांस और खेल ड्रामा को संतुलित करने की कोशिश करती है, लेकिन इसका निष्पादन अधूरा रहता है। राजकुमार राव और जान्हवी कपूर के मजबूत प्रदर्शन के बावजूद, फिल्म का अनुमानित कथानक और गति की समस्याएं इसे स्थायी प्रभाव छोड़ने से रोकती हैं। फिल्म संक्षेप में महत्वपूर्ण विषयों को छूती है, लेकिन उनमें गहराई से नहीं जाती, जिससे कहानी सतही और साधारण लगती है।

अंत में, श्री और श्रीमती माही एक महत्वाकांक्षी प्रयास है, जो लक्ष्य चूक जाता है। यह फिल्म आपको अधिक सामग्री और गहराई की उम्मीद के साथ छोड़ती है। यह प्रदर्शन के लिए देखने योग्य है, लेकिन यह एक उत्कृष्ट खेल ड्रामा बनने में असफल रहती है।

Leave a comment